कम्प्यूटर इंजिनियर ( Computer Engineer ) कैसे बनें ?..

दोस्तों अगर आप जनना चाहते हैं की कम्प्यूटर इंजिनियर कैसे बनें तो अब आपका सब्र खत्म हुआ इस अध्याय में कम्प्यूटर इंजिनियर कैसे बने (Computer Engineer kaise bane ) की जानकारी देने वाला हु। कम्प्यूटर इंजिनियर को कंप्यूटर साइंस और इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग का ज्ञान होना जरूरी है क्योंकि कम्प्यूटर इंजिनियर का काम कम्प्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर पार्ट्स डिजाइन करना होता है। तो चलिए जानते है Computer Engineer kaise बने (हाऊ तो बिकम कंप्यूटर इंजिनियर ) हिंदी में :

कंप्यूटर इंजीनियरिंग कोर्स जानकारी ("Computer Engineering Course Details In Hindi ")

जैसे कि जानते हैं कम्प्यूटर मुख्यत : दो भागों से मिलकर बना होता है हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर। कम्प्यूटर इंजिनियर बनने के लिए दोनो में से एक चुन सकते है। तो चलिए जानते है कंप्यूटर हार्डवेयर इंजिनियर और कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर इंजिनियर में क्या फर्क है।


सोफ्टवेयर Engineering :

Software Engineering में सॉफ्टवेयर बनने के लिए कोड लिखना होता है सॉफ्टवेयर बनने के लिए , सोफ्टवेयर को डिजाइन और टेस्ट करना इसका मुख्य काम होता हैं।


हार्डवेयर Engineering :

Computer hardware जैसे CPU, Mouse, मोडरबोर्ड इत्यादि को बनाना , इस पर रिसर्च करना , डिजाइन , डेवलप, नेटवर्किंग इत्यादि काम , हार्डवेयर इंजीनियरिंग में होता हैं।


कम्प्यूटर इंजिनियर योग्यता /(Qualification)

• 12 वीं कक्षा साइंस से मैथ्स, फिजिक्स केमिस्ट्री विषय के साथ पास होना 

• 60% मार्क्स एंट्रेंस एग्जाम के लिए

फ़ीस

 कम से कम 4 0000 से 3लाख / ईयर लग सकता है फ़ीस कॉलेज पर निर्भर करता हैं

सैलरी 

फ्रेशर के लिए 3लाख / ईयर एक्सपीरियंस के साथ आगे

 

Computer Engineer (कंप्यूटर इंजिनियर ) कैसे बनें ?

कम्प्यूटर इंजिनियर बनने के लिए सबसे पहले 12वीं कक्षा में साइंस या कंप्यूटर साइंस के साथ पास करे 12 वीं में कम से कम 60% अंक के साथ पास करे 


एंट्रेंस टेस्ट पास करना

12वीं के फाइनल के समय एंट्रेंस टेस्ट के फॉर्म फिल अप करें इसके लिए कुछ टॉप एंट्रेंस एग्जाम लिस्ट नीचे दिए है

• All India Engineering Entrance Exam (AIEE), BITSAT undergraduate entrance exam , Delhi university combined entrance exam, IIT jee इसके अलावा भी बहुत सारे स्टेट लेवल के इंजीनियरिंग एंट्रेंस एग्जाम होते है जिसे क्लियर कर सकते है इसे क्लियर करने के बाद कम्प्यूटर साइंस इंजीनियरिंग(computer science engineering ) जिसे सॉर्ट में CS कहते है कोर्स चुने ।


काउंसलिंग प्रक्रिया

एंट्रेंस एग्जाम पास होने के बाद काउंसलिंग के लिए बुलाया जाता है जहां कॉलेज सेलेक्ट करना होता है । अच्छे कॉलेज के लिए 12 वीं में अच्छे मार्क्स के साथ एंट्रेंस एग्जाम में अच्छे रैंक होना बहुत ही जरूरी है।

कम्प्यूटर इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करें :

 जैसे ही एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करते है तो कॉलेज में एडमिशन ले सकते है यहां कम्प्यूटर सांइस एंड इंजीनियरिंग (Computer Science and Engineering) कोर्स में एडमिशन ले । यह कोर्स 4 साल का होता है यानी कम्प्यूटर इंजिनियर बनने के लिए 4 साल की पढ़ाई मन लगा कर करना होगा ।



जैसे ही 4 साल की पढ़ाई पूरा है जाता है तो इसके बाद जॉब कर सकते है । अगर इसमें स्पेलिस्ट बनाना है तो आगे M.Tech कोर्स कर सकते है।

Post a Comment

All queries write I resolved it soon..

Don't write spem link and wrong word...

Previous Post Next Post