Civil Engineer (सिविल इंजीनियर ) कैसे बनें? पूरी जानकारी । Creeco

 दोस्तों सभी के लाइफ एक समय ऐसा आता है जब उसे ये सोचना जरूरी हो जाता है कि आखिर लाइफ में करना क्या है या कौन सा career options चुने , ऐसे में कुछ लोग Civil Engunder बनना चाहते है ।इस अध्याय में हम जानेंगे कि civil engineer kaise bane (हाऊ टो बिकम सिविल इंजीनियर इन हिंदी ) साथ ही ये भी जानेंगे की civil engineer kya hota hai तो चलिए जानते है सिविल इंजीनियर कैसे बनें ?


हाऊ बिकम सिविल इंजीनियर (Civil Engineer) टिप्स इन हिंदी


सिविल इजिनियरिंग (Civil Engineering ) क्या हैं?

Civil engineering, Engineering का एक भाग है जिसमे विद्यार्थी Road(रोड), buildings (बिल्डिंग), घर बनाना, बांध (Dam), घर का डिजाइन इत्यादि करना सीखता हैं।


Civil engineer का काम road kaise बनेगा, घर का डिजाइन कैसा होगा, कंट्रक्शन में किस किस समान कि आवश्कता हैं इत्यादि इससे जुड़े सभी कामों की जिम्मेदारी वाला काम हैं।


सिविल इंजीनियर (Civil Engineer)कैसे बनें?

Civil engineer 2 तरह से या 2 प्रकार से बन सकते है पहला, 10वीं के बाद डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग (diploma in civil engineering) करने के बाद जूनियर सिविल इंजीनियर (junior Civil Engineer) बन सकते है डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग कोर्स 3 साल का होता हैं। 

और दूसरा या दूसरा तरीका, 12वीं कक्षा के बाद Bachlor in Civil Engineering , बैचलर इन सिविल इंजीनियरिंग 4 सालों का होता है जिसे करने के बाद सीनियर सिविल इंजीनियर (Senior Civil Engineer) बन सकते हैं। इसे करने के बाद Master in Civil Engineering (मास्टर इन सिविल इंजीनियरिंग) में अप्लाई कर सकते है। यह post graduation कोर्स हैं।


Civil Engineering में अलग अलग Subject मिलेगे यानी इसमें से किस में expert (एक्स्पर्ट) बन सकते हैं जो निम्न हैं :

•Structural Engineering (स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग)

• Costal Engineering (कोस्टल इंजीनियरिंग)

•Earthquake Engineering (आर्थक्वेक इंजीनियरिंग)

• mterial Science And Engineering (मटेरियल साइंस एंड इंजीनियरिंग)

• Geotechnical engineering (जियोटेकनिकल इंजीनियरिंग)

• EnvironmentAl Engineering (एन्वायरनमेंटल इंजीनियरिंग)

• Forensic Engineering (फोरेंसिक इंजीनियरिंग)

Contruction Engineering (कंस्ट्रक्शन इंजीनियरिंग)

• Outside plant engineering (आउट साइड प्लांट इंजीनियरिंग


सिविल इंजीनियर बनने के लिए योग्यता 

(Eligibility Criteria for Become Civil engineer in Hindi)


• जूनियर सिविल इंजीनियर बनने के लिए 10वीं पास होना जरूरी है ।

• सीनियर civil engineer बनने के लिए 12वीं कक्षा में "गणित" के साथ पास होना जरूरी है अगर एंट्रेंस एग्जाम देना चाहते है तो 12वीं कक्षा में 60% मार्क्स चाहिए।

सिविल इंजीनियर (Civil engineer) कैसे बनें? पुरी जानकारी 

How to become a Civil Engineer 


10वीं , 12वीं पास करे:

 Civil engineer बनने के लिए 10वीं के बाद पॉलीटेक्निक या डिप्लोमा कोर्स (3 साल का कोर्स ) कर जूनियर सिविल इंजीनियर बन सकते है। और सीनियर सिविल इंजीनियर बनने के लिए 12वीं कक्षा 60% अंक के साथ पास करे ।

एंट्रेंस एग्जाम पास करे :

Civil engineering के लिए राज्य और देश लेवल के entrance एग्जाम होते है जिसे क्लियर कर best कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं। एंट्रेंस एग्जाम जैसे - आईआईटी (iit), Aieee इत्यादि जो नेशनल लेवल के एंट्रेंस एग्जाम है इसके अलावा राज्य लेवल के एंट्रेंस एग्जाम भी होते है।


एंट्रेंस एग्जाम पास होने के बाद काउंसलिंग होता है जिसके बाद मार्क्स और रैंक के आधार पर कॉलेज मिलता हैं। जितने अच्छे रैंक होंगे उतने ही अच्छे कॉलेज मिलते है।


✓इसके अलावा भी बहुत से कॉलेज है जहां बिना एंट्रेंस एग्जाम के एडमिशन मिलता है । जिसका फ़ीस 4 से 7 लाख हो सकता है।

Civil engineering Bachlor Degree पूरा करे

जैसे ही

सिविल इंजिनियरिंग बैचलर डिग्री पुरी करें

Civil Engineering Bachelor ki padai

जैसे ही कॉलेज में एडमिशन मिल जाता तो में लगा कर पढ़ाई करे और मिलने वाले सभी प्रोजेक्ट को पूरा करे जिससे प्रैक्टिकल नॉलेज मिल सके । बैचलर में 4साल तक रहेंगे जहां आपको घर का डिजाइन, बनाना maping, Construction की बेसिक से एडवांस जानकारी दी जाती है ।

इंटरशीप डिग्री के बाद 

डिग्री पूरा करने के बाद प्रैक्टिकल नॉलेज पाने के लिए intership करे। यह बहुत सारे extra knowledge मिलेगे जिससे काम करने के समय बहुत मदद मिलेगा।

लाइसेंस और सर्टिफाइड के लिए अप्लाई

जब लाइसेंस के अप्लाई करते है जब कुछ सालो का एक्सपीरियंस मांगता है इसीलिए कुछ सालो में एक्सपीरियंस होने के बाद लाइसेंस ले जिससे सर्टिफाइड सिविल इंजीनियर बन जाते है।



Post a Comment

All queries write I resolved it soon..

Don't write spem link and wrong word...

Previous Post Next Post